Clicky Web Analytics

Clicky

कच्चे रिश्ते , गहरे रिश्ते

सदी से बनते, पल में टूटते

सूना आकाश , गहरी प्यास

साथी छूटे , छूटे न आस

कौन अपना , शायद सपना

आँख में तैरता , काश ठहरता

चरखा चलता , चलती साँसे

मिलते दोस्त , बिछड़ती राहें

कुछ सच्चे , कुछ किस्स्से

कुछ पूरे , कुछ अधूरे

कोई चल दिया , कोई थम गया

यही पड़े है , वोह बीते लम्हे

                            -   रितेश


SpeedBlog.TopN